and
जादूनगरी? | Wonderland

1 October 2016

Translated from the English to the Hindi by Subhash Jaireth

मैं इस देश में जन्मा, ड्रीमटाइम से पोषित; परिदृश्य ऐहिक कथाओं से
गुंजित; मिथकीय लोगों और अन्य अलौकिक जीव​-जन्तुओं से रचित-बसित …
बस ऐसी है यह मेरी जादूनगरी ।

दक्षिणी गोलार्द्ध का सबसे साफ-सुथरा देश … इतना मांजा-चमकाया हुआ कि बस​
खुश और मदहोश अंग्रेज़ ही टेलीविजन पर देखे और माने-मनाए जाते हैं …
बस ऐसी है यह मेरी जादूनगरी?

मैं आज़ाद हूँ, पर जनवादी अधिकार बस नामभर के हैं । शासक वर्ग के लिए मैं बेहया
बला-आफत बन गया हूँ; ऑस्ट्रेलिया में स्वागत है … बस ऐसी है यह मेरी जादूनगरी ?

ईसाई सिपाही आए, हमला करते, धर्मयुद्ध करते, और मेरी धरणी-धरती आतंक पीड़ित
बन गयी, देश जेल बन गया, ऊंची दीवारों के पीछे बन्द हो गया …
बस ऐसी है यह मेरी जादूनगरी?

यह जेल अब अपनी दीवारों के बाहर भी कैदी रखता है … शरणार्थी
बिना मीआद की कैद में …

अब जब मृत्यु-पक्षी चीखता है
और दारोगा हुक्म चिल्लाता है,
बत्तियाँ सब बुझा दो!

बस यही है ऑस्ट्रेलिया …
अजीबो-गरीब जागीर …
हम आदिवासियों का कैदखाना …
यह नया नरसंहार …

बत्तियाँ सब बुझा दो!
यह मेरा घर​-घरौंदा …
मैं इसकी सुन्दरता से चकाचौंध हूँ, पर इसके झुलसाए चेहरे के दर्द को
भूल नहीं सकता ।
बस ऐसी है यह मेरी जादूनगरी …

परिशिष्ट
प्साल्म​ 68:6 परमेश्वर अनाथों का घर बसाता है; और बन्धुओं को छुड़ाकर भाग्यवान करता है;
परन्तु हठीलों को सूखी भूमि पर रहना पड़ता है …

This entry was posted in 55.1: DALIT INDIGENOUS and tagged , . Bookmark the permalink.

Related Posts:

Comments are closed.

Please read Cordite's comments policy before joining the discussion.