and
थाई | Thai

1 October 2016

Translated from the English to the Devnagari by Ajay Navaria

हम एक चमकती ढलती रात में तुम्हारे घर जाते हैं
हम नहीं सोचते अपने मूलनिवासी होने के बारे में
तुम एक नस्लभेद रहित लतीफा सुनाती हो जो तुमने सुना था
अचानक एक फैरी की प्रतीक्षा के समय
मुझे विश्वास है कि लोग सोचते हैं कि तुम श्वेत हो हालांकि मुझ से कुछ सॉंवली, गुदगुदाने वाली बात
मैं कभी इस बारे में नहीं सोचता
जब हम थाई प्लेस से गुज़रते है तब वह
सुगंध हमारे आसपास होती है।

This entry was posted in 55.1: DALIT INDIGENOUS and tagged , . Bookmark the permalink.

Related Posts:

Comments are closed.

Please read Cordite's comments policy before joining the discussion.